Poppy Flower in Hindi – Poppy Flower Meaning

नमस्कार दोस्तो !


इस blog post के जरिए हम आज आपको poppy flower in hindi और इससे जुड़ी जानकारी देने का प्रयाश करेंगे ( पोस्ता फूल का हिंदी में  मतलब बताएगें। ) दोस्तों आज हम आपको ( poppy flower )  पोस्ता फूल  जैसे विश्व प्रिये और सूंदर फूल के बारे  में जानकारी देंगे और पोस्ता फूल के अलग - अलग रंगों के बारे में बातएंगे साथ ही उसकी कुछ अन्य प्रजातियों के बारे में भी बातएंगे इन सभी की पूरी जानकारी देने का प्रयास करेंगे।


यह लेख उन  सभी  लोगों की मदद  करेगा  , जो पोस्ता फूल (poppy Flower) के बारे में जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं।


तो Seekhle Boss  की इस ब्लॉग पोस्ट को अंत तक जरूर पढ़े इसके जरिए हम आपको पोस्ता फूल को पौधे से जुड़ी जानकारी देने का पूरा प्रयास करेगें।

पोस्ता फूल (Poppy Flower) का वानस्पतिक नाम Papaver somniferum होता  है जो की  Papaveraceae परिवार का सदस्य  माना जाता  है। पोस्ता एक बारहमासी फूल  होता  है  जिसकी  विश्व में कई प्रजातियां पाई जाती  है, जिनमें से अधिकतर प्रजातियां का उपयोग अफीम बनाने के लिए किया जाता है। विश्व में सबसे अधिक पोस्ता  का फूल एशिया में पाया जाता है। पोस्ता के पौधे पर अंडाकार एक   फल होता है, जिसे डोडा कहा जाता है। पोस्ता के फूल कई रंगों  का  होता है  जैसे  :-  लाल, गुलाबी, सफेद, नारंगी एवं बैंगनी आदि ।

पोस्ता के पौधा की कुछ  अन्य  जानकारी – Poppy Flower Plant

पोस्ता (Poppy) एक बारह महीने  मिलने वाला  फूल का पौधा होता   है। जिसकी लंबाई लगभग 60 से 65 सेमी एवं चौड़ाई 35 से 40 सेमी  होती है। लेकिन पोस्ता फूल की कुछ प्रजातियों  इससे कम आकार की  भी होती है लगभग 50-55 सेमी एवं चौड़ाई 25 से 30 सेमी । पोस्ता पौधे की पत्तियां सीधी पौधे के तने से निकलती है। मतलब  इस पौधे  का  कोई  तना  नहीं  होता पोस्ता फूल के पौधे की रोपाई गर्मियों के मौसम में की जाती है। पोस्ता के पौधे पर एक  अंडाकार फल होता है, जिसे डोडा कहा जाता है।


विश्व में सबसे अधिक पॉपी फूल का उत्पादन एशियाई देशों (भारत, चीन, तुर्की) में होती है। भारत की बात की जाए तो भारत में सबसे अधिक उत्पादन राजस्थान, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, पंजाब आदि राज्यो में होता  है।

पोस्ता फूल का अर्थ क्या होता है ?  – Poppy Flower Meaning in Hindi

पोस्ता शब्द  पश्तो भाषा के पोस्त शब्द से लिया गया है। पॉपी को हिंदी में पोस्ता, पोस्त एवं खसखस का  फूल कहा  जाता है। पोस्ता फूल का सबसे पहले उत्पादन भूमध्य सागर के क्षेत्र में हुआ था। 


पोस्ता फूल (Poppy ) एक ऐसा पौधा है, जिसे उगने के लिए आबकारी विभाग की मंजूरी लेनी पड़ती है। क्यू   की  इस  पौधे  की मदद से अफ़ीम बनाया   जाता है जो की  एक नासा  करने  का परधारत  है

पोस्ता फूल एवं पौधे की मुख्य जानकारी क्या है ? – Poppy Flower Information in Hindi

वानस्पतिक नाम

Papaver somniferum

परिवार

Papaveraceae

सामान्य नाम

पोस्ता (Poppy)

पौधे की लंबाई

1-3 फीट

पौधे की चौड़ाई

1-2 फीट

पौधे का प्रकार

बारहमासी

मिट्टी की PH

6.5 से 7.0 PH

फूल खिलने का समय

गर्मी

फूल का रंग

लाल, गुलाबी, सफेद, नारंगी, बैंगनी आदि

मूल उत्पादन क्षेत्र

एशिया

Poppy flower  पोस्ता फूल के कितने  रंग  होते है?

  • पोस्ता फूल के रंगो  के नाम निम्नलिखित है  :- 
  • लाल ( Red)
  • गुलाबी (Pink)
  • सफेद (White)
  • नारंगी (orange)
  • बैंगनी (Purple)

Poppy पोस्ता फूल की प्रजातियां कौन कौन  सी है? – Poppy Flower Varieties

  • Himalayan Poppy
  • Plume Poppy
  • California Poppy
  • Opium Poppy
  • Corn Poppy
  • Iceland Poppy
  • Helen Elizabeth
  • Patty’s Plum
  • Turkish Delight

पोस्ता के बीज से पौधा कैसे उगाएं – How to Grow Poppy Flower Plant

अगर आप भी पॉपी का फूल  लगाना  चाहते है  थो नीचे  लिखी गई  निम्नलिखित  बातों  का  ध्यान  रख  कर आप  पॉपी  फ्लावर  का  पौधा  ऊगा सकते  है 


  1. सबसे पहले आपको  एक मिडियम आकार का गमला लेना  होगा परन्तु ये  ध्यान  रखे  की गमला में पानी निकलने की जगह अवश्य होनी चाहिए। ताकि  फालतू पानी  गमले  से निकल जाये  उससे  पौधे  को  कोई नुकसान नहीं होगा 


  1. उसके बाद आपको  अच्छी उपजाऊ मिट्टी को लेना  है   जिसका PH 6.5 से 7.0 के बीच हो। उसमें थोड़ा खाद एवं गोबर का मिश्रण करके उस  मिट्टी को  अच्छी तरह  से   तैयार करना  है ।


  1. मिट्टी तैयार करने के बाद तीन से चार पोस्ता के बीज (Poppy seeds) लें लेने  है । पर ध्यान रहें बीज अच्छी गुणवत्ता वाली होनी चाहिए। मतलब अच्छी  क्वालिटी  के  होने  चाइये 


  1. पोस्ता के बीज (Poopy seeds ) लेने के बाद आपको लगभग आधा गमला मिट्टी से भर देना  है  , उसके बाद पोस्ता के बीज को दो दो इंच की दूरी पर गमले में लगा  दे ।


  1. उसके बाद मिट्टी से पोस्ता (Poppy)  के बीजों को अच्छी तरह ढक दें। लेकिन ध्यान  रखे  कम से कम गमले में करीबन 3 इंच जगह पानी डालने के खाली रखें।


  1. पोस्ता (Poppy)  के बीज लगाने के बाद उसमें उचित मात्रा में पानी डाल दें। उसके बाद जहां सूर्य की किरणें (धूप) कम आती हो, वहां गमले को  रखें। क्योंकि इस पौधे  को  ज्यादा  धुप  की अबसयकता नहीं होती है 

पोस्ता फूल के पौधे की देखभाल कैसे करें? – Poppy Flower Care in Hindi

पोस्ता फूल के पौधे के विकाश के लिए इसकी देखभाल करना बहुत  ज़रूरी है, तो चलिए देखभाल करने के कुछ   उपयो को देखते है:- 


  1. सबसे पहले  अगर अपने   बीज लगा  दिया  है तो  आपको  ध्यान  रखना  है कि आप  उसमे  अधिक मात्रा में पानी न  दे अगर  आप  उसमे अधिक पानी देंगे तो पौधा ख़राब हो  जायेगा इसलिए पॉपी  के  पौधे को अधिक पानी की आवश्यकता नहीं होती है।


  1. दूसरी  बात  पोस्ता फूल के पौधे को कम धूप वाले क्षेत्र में रखना चाइये  । क्योंकि इस पौधे के लिए उचित तापमान 10-19°C है। अधिक धूप लगने से पौधा खराब हो सकता है। और  इसकी पत्तिया  भी  मुरझा सकते है इसलिए पॉपी के पौधे हो कम धुप वाली जहगा  पर रखे 


  1. पोस्ता फूल के पौधे में  जरूरत से ज्यादा खाद या कीटनाशक का उपयोग न करें। अगर  पौधे में कीड़े लगे तो ही कीटनाशक का प्रयोग करें। इससे  जल्दी ही कीड़े हट  जायेंगे  और  पौधा पहले  की तरह अच्छा  और  हरा भरा  हो  जायेगा 

FAQ

Ques. Poppy फूल को हिंदी में क्या कहा जाता हैं?


Ans. – Poppy फूल को हिंदी में पोस्ता एवं पोस्त कहा जाता हैं।


Ques. पोस्ता क्या होता है? (What is Poppy)


Ans.  – पोस्ता एक फूल का पौधा है, जिसमें से अफीम (Aphaim) की उत्पादन होती है।


Ques.  Poppy फूल का वानस्पतिक नाम क्या होता  है?


Ans.  – Poppy फूल का वानस्पतिक नाम Papaver somniferum  होता  है।


Ques. पोस्ता की खेती कौन से महीने में की जाती है?


Ans. – पोस्ता की खेती अक्टूबर से अंतिम नवंबर तक की जाती है।


Ques. Poppy Flower में क्या नशा होता है?


Ans.  – हां , पॉपी फूल में नशा होता है। इसलिए पॉपी फूल की खेती करने से पहले आबकारी विभाग की मंजूरी लेनी पड़ती है।


BY- SANJANA POSWAL

इसे भी पढ़ें  –

Leave a Comment